Monthly Archives: January 2013

नये साल का चाँद

बस मे बैठ, खिड़की से, नये साल के चाँद को देख सोचता हूँ, पिछले साल भी तो यह चाँद ऐसे ही दिख रहा था, थोडा बहुत आकार मे अंतर है पर वही रंग, वही सूरत… शायद यही फरक है चाँद … Continue reading

Posted in Nirlipta Ke Kalam Se | 5 Comments