I know earth is not meant for souls as precious as you

Happy Birthday Chintu

बहुत दिनों से कुछ लिखना चाहता था तुम पे;
तुम्हारे यादों के फूलों को संजोना चाहता था;
कभी लफ़्ज़ों ने साथ नहीं दिया तो कभी जज्बातों ने.

आज भी हाथ काँप रहे हैं, लफ्ज़ भाग रहे हैं;
जाने क्यों अब भी हिम्मत नहीं हो रही है;

यह हिम्मत,
यह भी तो तुम्हारी ही देन हे,
पहले भी मेरा दिल थोड़ा कमजोर था;
पर तुम्हारा जाना, बहुत कुछ सीखा गया…

दिल पत्थर का तो नहीं बना;
पर अब किसी बात से, इतना दुख़्ता नहीं है;
सह जाता है हर बात बड़ी आसानी से;
जैसे सह गया तुम्हारा हमें छोड़के चले जाना…

आज तुम होते तो पूरे 23 साल के होते!

क्या रोनक होती यहाँ;
तुम अपने बातों से आज भी हमें हसाते;
अपनी शरारतों से सबका दिल जीत जाते…

 

मुझे यकीं हे;
वहाँ भी तुम्हारा जादू चल गया होगा;
आज वहाँ भी महेफ़िल जम गयी होगी;.

इस जनमदिन मे तुम्हारे;
मे उदास नहीं, बहुत खुश हूँ;
और तुम्हारी तरह,
खुशियाँ बिखेरने की कोशिश कर रहा हूँ.

बस इतना सा दर्द दिल में दबा रहा हूँ;
और जज़्बातों कि धाराओं को आँखो से;
चेहरे की पगडंडी पे उतार रहा हूँ…

Happy Birthday Chintu….Miss you a lot… 😦

Advertisements
This entry was posted in Memory, Nirlipta Ke Kalam Se, Poetry and tagged , , , , , , . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s