I know earth is not meant for souls as precious as you

Happy Birthday Chintu

बहुत दिनों से कुछ लिखना चाहता था तुम पे;
तुम्हारे यादों के फूलों को संजोना चाहता था;
कभी लफ़्ज़ों ने साथ नहीं दिया तो कभी जज्बातों ने.

आज भी हाथ काँप रहे हैं, लफ्ज़ भाग रहे हैं;
जाने क्यों अब भी हिम्मत नहीं हो रही है;

यह हिम्मत,
यह भी तो तुम्हारी ही देन हे,
पहले भी मेरा दिल थोड़ा कमजोर था;
पर तुम्हारा जाना, बहुत कुछ सीखा गया…

दिल पत्थर का तो नहीं बना;
पर अब किसी बात से, इतना दुख़्ता नहीं है;
सह जाता है हर बात बड़ी आसानी से;
जैसे सह गया तुम्हारा हमें छोड़के चले जाना…

आज तुम होते तो पूरे 23 साल के होते!

क्या रोनक होती यहाँ;
तुम अपने बातों से आज भी हमें हसाते;
अपनी शरारतों से सबका दिल जीत जाते…

 

मुझे यकीं हे;
वहाँ भी तुम्हारा जादू चल गया होगा;
आज वहाँ भी महेफ़िल जम गयी होगी;.

इस जनमदिन मे तुम्हारे;
मे उदास नहीं, बहुत खुश हूँ;
और तुम्हारी तरह,
खुशियाँ बिखेरने की कोशिश कर रहा हूँ.

बस इतना सा दर्द दिल में दबा रहा हूँ;
और जज़्बातों कि धाराओं को आँखो से;
चेहरे की पगडंडी पे उतार रहा हूँ…

Happy Birthday Chintu….Miss you a lot… 😦

Advertisements

तलाश

Talaashकाली अंधियारी रात थी;
आसमान मे चाँद नही था; आमावास की रात थी शायद!
सड़कों पे बिजली के पुल तो थे, पर उसमे बत्ती गुल थी;
लगता था, जैसे किसी शरारती बच्चे ने पत्थर फेंक उसे तोड़ दिया था!

हाथ मे लालटेन लिए, मे चला जा रहा था कहीं;
शायद कुछ ढूंड रहा था!
हल्की रोशनी से, आँखों को थोड़ी तकलीफ़ हो रही थी;

फिर आँखे खुल गयी थी मेरी; ख्वाब से जग गया था मे!

अब सोच रहा हूँ, आख़िर क्या ढूंड रहा था मे!

शायद….
शायद अपने आप को तलाश कर रहा था मे, हल्की सी उस रोशनी मे;
हाँ, अपने आप को ही तलाश कर रहा था मे!

All rights reserved @Nirlipta.